Independence day's Offer

चावल एक्सपोर्ट में रुपये की पेंच!

डॉलर के मुकाबले रुपये में आई मजबूती से चावल एक्सपोर्ट में पेंच फंस गया है। बांग्लादेश जैसा ट्रेडिशनल खरीददार भी अब भारत के बजाय थाईलैंड से चावल खरीदने जा रहा है। वहीं अफ्रीकी देशों से भी चावल की मांग कमजोर पड़ गई है। 


दरअसल डॉलर के मुकाबले रुपये में आई मजबूती से ग्लोबल मार्केट में भारतीय चावल महंगा बैठ रहा है। भारत करीब 410 डॉलर प्रति टन के भाव चावल बेच रहा है, जबकि थाईलैंड और वियतनाम का भाव 400 डॉलर के नीचे है। इस साल डॉलर के मुकाबले रुपया करीब 6.5 फीसदी मजबूत हो चुका है।